Sunday, 16 June 2019, 2:02 AM

धर्म एवं ज्योतिष

बाबा अमरनाथ यात्रा की 5 खास बातें, बहुत जरूरी है जानना

Updated on 15 June, 2019, 6:30
अमरनाथ की गुफा श्रीनगर से करीब 145 किलोमीटर की दूरी हिमालय पर्वत श्रेणियों में स्थित है। समुद्र तल से 3,978 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह गुफा 150 फीट ऊंची और करीब 90 फीट लंबी है। अमरनाथ यात्रा पर जाने के लिए 2 रास्ते हैं- एक पहलगाम होकर जाता है... आगे पढ़े

भगवान श्रीकृष्ण का यह 1 मंत्र आश्चर्यजनक रूप से प्रभावशाली है

Updated on 15 June, 2019, 6:15
श्रीकृष्ण की आराधना करने वालों के सब क्लेश दूर हो जाते हैं। दुख-दरिद्रता से उद्धार होता है। जिन परिवारों में कलह-क्लेश के कारण अशांति का वातावरण हो, वहां घर के लोग इस मंत्र का अधिकाधिक जप करें : श्रीकृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने। प्रणत क्लेशनाशाय गोविन्दाय नमो नम:॥ इस मंत्र का नित्य जप... आगे पढ़े

सिर्फ 5 बातें ऐसी हैं, जो आपने मान लीं तो कोई नहीं रोक सकेगा आपको करोड़पति होने से

Updated on 15 June, 2019, 6:00
व्यक्ति धनवान बनता है या तो अपने भाग्य के बल पर या कर्म के बल पर, लेकिन कभी-कभी यह दोनों ही बल समाप्त हो जाते हैं तो कहते हैं निर्बल के बल राम या धर्म के करो कोई उपाय। धन प्राप्ति के लिए कुछ लोग लक्ष्मी माता का पूजन करते... आगे पढ़े

परिवार की रक्षा करने में तुलसी बहुत शक्तिशाली है, तुलसी के ये उपाय हमेशा आजमाएं

Updated on 14 June, 2019, 6:30
हर घर के बाहर तुलसी का पौधा होना अनिवार्य है। इतना ही नहीं, बल्कि जो व्यक्ति प्रतिदिन तुलसी का सेवन करता है, उसका शरीर अनेक चंद्रायण व्रतों के फल के समान पवित्रता प्राप्त कर लेता है। जल में तुलसीदल (पत्ते) डालकर स्नान करना तीर्थों में स्नान कर पवित्र होने जैसा है... आगे पढ़े

तीर्थ यात्रा का शुभ फल कैसे मिलेगा, इसे पढ़कर आंखें खुल जाएगी आपकी

Updated on 14 June, 2019, 6:15
तीर्थ यात्रा का मुख्य उद्देश्य होता है पुण्य फल कमाना। लेकिन कुछ पौराणिक तथ्य बताते हैं कि तीर्थ यात्रा का फल किसे मिलता है और किसे नहीं... जानिए तीर्थ यात्रा के बारे में 5 महत्वपूर्ण तथ्य... 1. तीर्थ क्षेत्र में जाने पर मनुष्य को स्नान, दान, जप आदि करना चाहिए, अन्यथा वह... आगे पढ़े

शुक्र ग्रह के शुभ फल पाना है तो शुक्रवार के दिन आजमाएं ये 5 सरलतम उपाय

Updated on 14 June, 2019, 6:00
शुक्र देव अथवा शुक्र ग्रह 'शुक्रवार' के स्वामी हैं। शुक्र ग्रह की प्रकृति राजसी हैं और धन, खुशी और प्रजनन का प्रतिनिधित्व करते हैं।  अगर आपको शुक्र के शुभ फल पाना है तो शुक्रवार के दिन यह उपाय अवश्य करना चाहिए। आइए जानें... * सुबह उठते ही मां लक्ष्मी को नमन कर... आगे पढ़े

केदारनाथ के दर्शन का पुण्य मिलता है यहां 

Updated on 13 June, 2019, 7:00
भागवान शिव के वैसे तो कई मंदिर हैं पर जोतिबा कोल्हापुर के उत्तर में पहाड़ों से घिरा एक खूबसूरत मंदिर अलग तरह का है। इस मंदिर की मान्यता स्थानीय लोगों में ज्योतिर्लिंग के समान है। लोग इसे केदारलिंगम कहते हैं। इसके दर्शन से केदारनाथ के दर्शन का पुण्य मिलता है।... आगे पढ़े

भगवान श्रीगणेश को इसलिए मिला है अहम स्थान 

Updated on 13 June, 2019, 6:45
भगवान श्रीगणेश समस्त वास्तु दोषों को दूर करते हैं। भगवान श्रीगणेश मंगलकारी देवता हैं। जहां श्रीगणेश का नित पूजन-अर्चन होता है, वहां रिद्धि-सिद्धि और शुभ-लाभ का वास होता है। घर के मुख्य द्वार पर भगवान श्रीगणेश की प्रतिमा या तस्वीर लगाने से घरवालों की दिनों दिन उन्नति होती है। आम,... आगे पढ़े

घर में मूर्तियां रखने से पहले जान लें ये नियम 

Updated on 13 June, 2019, 6:30
घर और मंदिर में फर्क होता है और जो लोग घर में ही मंदिर बना लेते हैं उनके लिए कई नियम मान्य होते हैं जैसे कहां बनाना चाहिए, घर का कौन सा कोना पवित्र है वगैराह-वगैराह, लेकिन घर में मूर्तियां रखने के भी कुछ नियम होते हैं। शास्त्रों के अनुसार... आगे पढ़े

चंद्र पर्वत का है जीवन में अहम स्थान

Updated on 13 June, 2019, 6:15
हमारे जीवन में हाथों की रेखाओं के साथ ही कई अन्य निशान भी होते हैं जिससे किसी के भी बारे में जाना जा सकता है। हाथ में चंद्र पर्वत बेहद महत्‍वपूर्ण और जीवन के बारे में बहुत कुछ बताने वाला होता है। यदि चंद्र पर्वत सामान्य विकसित हो तो जातक... आगे पढ़े

आसान से वास्तु उपायों से घर में आयेगी खुशहाली 

Updated on 13 June, 2019, 6:00
हम सभी चाहते हैं कि घर में शांतिपूर्ण वातावरण रहे। परिवार के सदस्यों को कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानी न हो। आर्थिक संकट भी नहीं रहे। अगर ऐसी परेशानियों से आप जूझ रहे हैं तो इसकी वजह घर में मौजूद वास्तु दोष हो सकते हैं। वास्तु दोष हमारी दैनिक दिनचर्या पर... आगे पढ़े

देवी गंगा किसकी पुत्री और किसकी पत्नी थीं?

Updated on 12 June, 2019, 6:45
गंगा क्या है? नदी या देवी? सचमुच गंगा के बारे में जानना बहुत जरूरी है। नदी है तो फिर देवी कैसे और देवी है तो फिर नदी कैसे? दरअसल, भारत में प्रत्येक नदी को देवीतुल्य माना गया है, क्योंकि उसी से संपूर्ण भारत में अन्य-जल उत्पन्न होता है। वही है... आगे पढ़े

क्या हिन्दू धर्म में मांस खाना मना है?

Updated on 12 June, 2019, 6:30
हिन्दू धर्म में मांस खाना मना है या नहीं है इस संबंध में कई लोगों के मन में भ्रम है। शाकाहारी भोजन को हिन्दू धर्म में उत्तम माना है किले मांस खाने को लेकर कोई सख्त अनुदेश नहीं दिया गया है। आओ जानते हैं इस संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी। वेदों के... आगे पढ़े

गंगा दशहरा पर पढ़ें मां गंगा की पवित्र आरती

Updated on 12 June, 2019, 6:15
जय गंगा मैया मां जय सुरसरी मैया। भवबारिधि उद्धारिणी अतिहि सुदृढ़ नैया।। हरी पद पदम प्रसूता विमल वारिधारा। ब्रम्हदेव भागीरथी शुचि पुण्यगारा।। शंकर जता विहारिणी हारिणी त्रय तापा। सागर पुत्र गन तारिणी हारिणी सकल पापा।। गंगा-गंगा जो जन उच्चारते मुखसों। दूर देश में स्थित भी तुरंत तरन सुखसों।। मृत की अस्थि तनिक तुव जल धारा पावै। सो जन पावन... आगे पढ़े

गंगा दशहरा पर कर लीजिए मां गंगा को इस पावन आरती से प्रसन्न

Updated on 12 June, 2019, 6:00
मां गंगा की पवित्र आरती ॐ जय गंगे माता, श्री गंगे माता। जो नर तुमको ध्याता, मनवांछित फल पाता। ॐ जय गंगे माता... चन्द्र-सी ज्योत तुम्हारी जल निर्मल आता। शरण पड़े जो तेरी, सो नर तर जाता। ॐ जय गंगे माता... पुत्र सगर के तारे सब जग को ज्ञाता। कृपा दृष्टि तुम्हारी, त्रिभुवन सुख दाता। ॐ जय गंगे माता... एक... आगे पढ़े

भगवान राम के जल समाधि लेने के बाद हनुमान जी का क्या हुआ?

Updated on 11 June, 2019, 6:45
भगवान राम का निजधाम प्रस्थान अश्विन पूर्णिमा के दिन मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने अयोध्या से सटे फैजाबाद शहर के सरयू किनारे जल समाधि लेकर महाप्रयाण किया। श्रीराम ने सभी की उपस्थिति में ब्रह्म मुहूर्त में सरयू नदी की ओर प्रयाण किया। जब श्रीराम जल समाधि ले रहे थे तब उनके परिवार... आगे पढ़े

शत्रु की आधी शक्ति को खींचने वाले महाबली बाली का जब हनुमानजी से हुआ सामना

Updated on 11 June, 2019, 6:30
सुग्रीव का भाई, अंगद का पिता, अप्सरा तारा का पति और वानरश्रेष्ठ ऋक्ष का पुत्र बाली बहुत ही शक्तिशाली था। देवराज इंद्र का धर्मपुत्र और किष्किंधा का राजा बाली जिससे भी लड़ता था लड़ने वाला कितना ही शक्तिशाली हो उसकी आधी शक्ति बाली में समा जाती थी और लड़ने वाला... आगे पढ़े

दरिद्रता एक अभिशाप है, इस अष्टलक्ष्मी स्तोत्र से दूर करें गरीबी

Updated on 10 June, 2019, 6:30
दरिद्रता एक अभिशाप है। शास्त्र कहता है- 'बुभुक्षित: किं करोति पापम्। क्षीणा: नरा: निष्करुणा भवन्ति।।' अर्थात् भूखा व्यक्ति कौन सा पाप नहीं करता। हमारे शास्त्रों में ऐसे अनेक अनुष्ठानों एवं स्तोत्रों का उल्लेख है जिनसे दरिद्रता से मुक्ति मिलती है। वेबदुनिया के पाठकों के लाभार्थ यहां लक्ष्मी प्राप्ति हेतु दुर्लभ 'अष्टलक्ष्मी स्तोत्र' दिया... आगे पढ़े

धूमावती गायत्री मंत्र के साथ जानिए किस वस्तु से होम करने से मिलता है क्या फल

Updated on 10 June, 2019, 6:15
धूमावती देवी की कृपा से साधक धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्राप्त कर लेता है। देवी साधक के पास बड़ी से बड़ी बाधाओं से लड़ने और उनको जीत लेने की क्षमता आ जाती है। महाविद्या धूमावती के मंत्रों से बड़े से बड़े दुखों का नाश होता है। धूमावती गायत्री मंत्र:- ॐ धूमावत्यै विद्महे... आगे पढ़े

चंद्र को अपने लिए अनुकूल बनाना है तो 2 चंद्र मंत्र और 5 उपाय आपके ही लिए हैं

Updated on 10 June, 2019, 6:00
चंद्र देव सौम्य और शीतल देवता हैं     लेकिन कुंडली में अशुभ हो तो कई परे‍शानियां देते हैं आइए जानते हैं उन्हें शुभ कैसे बनाया जाए... एकाक्षरी बीज मंत्र- 'ॐ सों सोमाय नम:।' तांत्रिक मंत्र- 'ॐ श्रां श्रीं श्रौं चन्द्रमसे नम:।' जप संख्या- 11,000 (11 हजार)। (कलियुग में 4 गुना जाप एवं दशांश हवन का... आगे पढ़े

धूमावती जयंती 2019 : 10 जून को धूमावती जयंती, जानिए कैसे करें पूजन, जपें ये मंत्र

Updated on 9 June, 2019, 6:30
वर्ष 2019 में सोमवार, 10 जून को धूमावती जयंती मनाई जा रही है। हिन्दू धर्म के अनुसार ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मां धूमावती जयंती मनाई जाती है। इस विशेष अवसर पर दस महाविद्या का पूजन किया जाता है। इस दिन विशेषकर काले तिल को काले वस्त्र... आगे पढ़े

सूर्य की शुभता चाहते हैं तो जरूर पढ़ें सूर्य के 7 उपाय, 2 मंत्र और दान सामग्री

Updated on 9 June, 2019, 6:15
सूर्य प्रत्यक्ष देवता हैं आइए जानें उन्हें अपनी चमकती सफलता के लिए कैसे शुभ बनाया जाए... एकाक्षरी बीज मंत्र- 'ॐ घृणि: सूर्याय नम:'। तांत्रिक मंत्र- 'ॐ हृां हृीं हृौं स: सूर्याय नम:'। जप संख्या- 7,000 (सात हजार)। (कलियुग में 4 गुना जाप एवं दशांश हवन का विधान है।) दान सामग्री- लाल वस्त्र, गुड़, माणिक्य, गेहूं,... आगे पढ़े

केरल के गुरुवायूर मंदिर में किस देवता की होती है पूजा, जानिए इतिहास

Updated on 9 June, 2019, 6:00
केरल के त्रिसूर जिले के गुरुवायूर शहर में गुरुवायूर मंदिर है। मंदिर के गर्भगृह में श्रीकृष्ण की मूर्ति स्थापित है। मंदिर में स्थापित मूर्ति मूर्तिकला का एक बेजोड़ नमूना है। गुरुवायूर मंदिर 5000 साल पुराना है और 1638 में इसके कुछ भाग का पुनर्निमाण किया गया था। इस मंदिर में... आगे पढ़े

बहुत सारे मंत्र-श्लोक नहीं पढ़ सकते हैं तो यह सर्वारिष्ट निवारण स्तोत्र आपके लिए है

Updated on 8 June, 2019, 10:00
(इस स्तोत्र को श्रद्धापूर्वक करने से सभी अरिष्टों का नाश होता है। अधिक लाभ के लिए इस स्तोत्र से नित्य हवन करें तथा 'स्वाहा' के उच्चारण के साथ गाय के घी की आहुति छोड़ें।) सर्वारिष्ट निवारण स्तोत्र पाठ ॐ गं गणपतये नम:। सर्वविघ्न विनाशनाय, सर्वारिष्ट निवारणाय, सर्वसौख्यप्रदाय, बालानां बुद्धिप्रदाय, नानाप्रकार धन वाहन भूमि प्रदाय, मनोवांछित... आगे पढ़े

एक ही गोत्र में शादी क्यों नहीं करते, कारण जानकर अचरज होगा

Updated on 8 June, 2019, 6:30
आपने विवाह संबंधों की चर्चा के दौरान अक्सर यह सुना होगा कि अमुक विवाह इसलिए नहीं हो पाया, क्योंकि वर और कन्या सगोत्री थे। कुछ लोग इसे महज एक रूढ़ि मानते हैं, तो कई इसका बढ़ा-चढ़ाकर प्रचार करते हैं। वास्तविक रूप से सगोत्र विवाह निषेध चिकित्सा विज्ञान की 'सेपरेशन ऑफ... आगे पढ़े

12 जून को मां गायत्री प्रकटोत्सव : पढ़ें गायत्री मंत्र, सरल और गोपनीय अर्थ सहित हिन्दी में

Updated on 8 June, 2019, 6:15
समस्त धर्म ग्रंथों में गायत्री की महिमा एक स्वर से कही गई। समस्त ऋषि-मुनि मुक्त कंठ से गायत्री का गुण-गान करते हैं। शास्त्रों में गायत्री की महिमा के पवित्र वर्णन मिलते हैं। गायत्री मंत्र तीनों देव, बृह्मा, विष्णु और महेश का सार है। गीता में भगवान् ने स्वयं कहा है ‘गायत्री... आगे पढ़े

अयि गिरि नन्दिनी नन्दिती : कालिदास रचित इस स्तुति से खुलेगा सौभाग्य

Updated on 8 June, 2019, 6:00
अयि गिरि नन्दिनी नन्दिती कालिदास रचित यह सर्वाधिक लोकप्रिय और असरकारी कालिका स्तुति है। इस पर नृत्य प्रस्तुतियां आपने बहुत देखी होंगी, आइए पढ़ें यह दिव्य स्तुति, इसके पढ़ने से सौभाग्य चमकता है, सफलता के दरवाजे अपने आप खुलने लगते हैं... कालिका स्तुति अयि गिरि नन्दिनी नन्दिती मेदिनि, विश्व विनोदिनी नन्दिनुते। गिरिवर विन्ध्यशिरोधिनिवासिनी,... आगे पढ़े

श्री गुरु अर्जन देव जी - जीवन परिचय

Updated on 7 June, 2019, 6:45
गुरु अर्जन देव का जन्म सिख धर्म के चौथे गुरु, गुरु रामदासजी व माता भानीजी के घर वैशाख वदी 7, (संवत 1620 में 15 अप्रैल 1563) को गोइंदवाल (अमृतसर) में हुआ था। श्री गुरु अर्जन देव साहिब सिख धर्म के 5वें गुरु है। वे शिरोमणि, सर्वधर्म समभाव के प्रखर पैरोकार... आगे पढ़े

कुंडली में गुरु ग्रह को शुभ बनाना है तो पढ़ें 2 मंत्र और 6 उपाय

Updated on 7 June, 2019, 6:30
देवताओं के गुरुदेव बृहस्पति को कुंडली में शुभ कैसे बनाएं, आइए जानें सरल उपाय एकाक्षरी बीज मंत्र- 'ॐ बृं बृहस्पतये नम:।' तांत्रिक मंत्र- 'ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।' जप संख्या- 19,000 (19 हजार)। (कलियुग में 4 गुना जाप एवं दशांश हवन का विधान है।) दान सामग्री- पीला वस्त्र, स्वर्ण, पुखराज, हल्दी की गांठ,... आगे पढ़े

16 जून को सूर्य का राशि परिवर्तन, बनेंगे कई दुर्लभ योग, जानिए राशियों पर होगा क्या प्रभाव

Updated on 7 June, 2019, 6:15
ज्योतिष में ग्रहों का राशि परिवर्तन करना एक सामान्य घटना है किंतु कभी-कभी इन ग्रहों का गोचर कई दुर्लभ संयोगों का सृजन कर देता है, जो कई वर्षों बाद निर्मित होते हैं। इसी 16 जून, रविवार को गोचरवश नवग्रहों के राजा सूर्य अपनी राशि परिवर्तन कर अपने मित्र की राशि... आगे पढ़े